गुरुवार, 24 जून 2010

एक मजेदार विश्वास ... !



विश्वास के साथ मजेदार शब्द का प्रयोग कुछ अटपटा लग सकता है , लेकिन इसके अलावा कोई और शब्द सूझा भी नहीं , सो लिखना पड़ामेघ देवता को मनाने के लिए शहर में इन दिनों मेढक - मेढकी की शादीकराई जा रही है पता नहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश के सिवा कही और ये विश्वास है कि नहीं , लेकिन हमारे यहाँ तो इस रिवाज़ के साथ पूरा विश्वास जुड़ा हैअगर समय होने पर भी इंद्र देव मेहरबान हों तो इस शादी वाले टोटके के बाद वो ज़रूर पिघलतें है , ऐसी मान्यता हैबड़ी मज़ेदार होती है ये शादी , वो भी पूरे विधि - विधान के साथ......, पंडित जी मंत्रोच्चार करते हैं, दुल्हन सिन्दूर धारण करती है , दूल्हा - दुल्हन पवित्र अग्नि के फेरे लेते हैं , फिर नवयुगल के सुखद जीवन की कामना की जाती हैइतना सब करने के पीछे विश्वास होता है कि जब ये नव - विवाहित जोड़ा श्रंगार रस में डूब कर नृत्य करके मेघों का आह्वान करेगा तो घनघोर बारिश होगी । इस टोटके के लिए असली मेढक - मेढकी ढूंढें जाते हैं और ये न होने की स्थिति में प्लास्टिक के जोड़े से भी काम चलाया जा सकता है , बस नीयत साफ़ होनी चाहिए । है न एक मज़ेदार विश्वास । अब इस विश्वास का आधार क्या है , ये परखने का काम अपने - अपने विवेक पर छोड़ दिया गया है और एक बात बताऊँ ? कल बनारस में कई जोड़ों की शादी हुई और आज सुबह से ही तपते मौसम में कुछ राहत सी महसूस हो रही है । सुबह हलकी बारिश भी हुई । अब आप इसे चाहे जो कह लें । विश्वास है तो है ... और वो कहते है न विश्वास पर दुनिया कायम है !!!!!!!

गुरुवार, 17 जून 2010

खामोश ... राजनीति चालू आहे !


राजनीति यानी राजा की नीति ही प्रजा की नियति तय करती है इसलिए ये ज़रूरी है कि अच्छे और सच्चे लोग इस " कुरुक्षेत्र " में सक्रिय रूप से आगे आयें और राजनीति की धूमिल छवि को स्वच्छ करके इसे आगे ले चलेंइस बात की हिमायत और वकालत अक्सर ही की जाती रही है और हर बार बुद्धिजीवी वर्ग चाहे विनम्रता चाहे तल्खी के साथ इस प्रस्ताव को ख़ारिज करता रहा है । प्रकाश झा की राजनीति एक बार फिर इसी बात को पूरी ताकत के साथ ख़ारिज करती है। राजनीति एक बार फिर इस बात की पुष्टि करती नज़र आती है कि इस कुरुक्षेत्र में अच्छे और सच्चे लोगों की न कोई जगह है , न ही कोई ज़रुरत । ये दरअसल काजल की वो कोठरी है , जिसमें कैसो भी सयानो जाय, काजल का दाग भाई लागे ही लागे !
सच्चाई , ईमानदारी और भावुकता इस धंधे की सबसे खतरनाक अयोग्यता है जो अंततः मौत के द्वार खोलती है और प्यार - मोहब्बत - दोस्ती - वफ़ा जैसे फ़ितूर सुनिश्चित विनाश के दरवाज़े तक पहुंचा देते हैं , यही है राजनीति... ! अपनी प्रतिष्ठा और दर्शकों की अपेक्षानुरूप प्रकाश झा ने एक सच्चाई उधेड़ती फिल्म प्रस्तुत कर के एक फ़िल्मकार के रूप में अपनी मेधा का परिचय तो दिया ही है साथ ही ये भी साबित कर दिया है कि बिना मुम्बईया लटके - झटके के भी एक सार्थक फिल्म को सराहने की तमीज भारतीय सिने दर्शक को हैपूरी फिल्म बिना सिचुएशनल गीत -संगीत की बैसाखी के आगे बढती है और अपनी बात कहने में कामयाब रहती हैबस एक प्रतीकात्मक भाव संप्रेषित करता हुआ गीत " मोरा पिया मोसे बोलत नाहीं " बैक ग्राउंड स्कोर की तरह बजता है,बिना कोई व्यवधान डालेजैसा कि उत्सुकता थी और उम्मीद भी ,सभी कलाकार अपनी भूमिकाओं के साथ एकाकार होते दिखाई पड़ते हैं , बस कुछ जगह कुछ बातें अखर जाती हैंजैसे एक बेहद छोटी और औचित्यहीन भूमिका में नसीरुद्दीन शाह जैसे दिग्गज का होनानसीर जिस मयार के कलाकार हैं , वहाँ दरअसल छोटी - बड़ी भूमिका से कोई फर्क नहीं भी पड़ता ,क्योंकि उनके होने से ही किरदार बड़ा हो जाता है लेकिन जिन लोगों ने फिल्म देखी है उन्होंने शायद महसूस किया हो , जिस तरह शुरुआत के बाद ही नसीर का किरदार कहानी से हमेशा - हमेशा के लिए गायब हो जाता है वो भी बिना कोई सूत्र छोड़े, वो हजम नहीं होताअजय देवगन लाख बेहतरीन अभिनेता सही, मगर वो नसीरुद्दीन शाह का एक्सटेंशन (कहानी के अनुसार) नहीं हो सकतेये बात कम से कम मुझ जैसे नसीर के प्रशंसकों के गले तो नहीं ही उतरती और तुरंत दिमाग में आता है ये ख़याल कि इतना ही करना था तो किसी और को भी लिया जा सकता था इस रोल के लिएदूसरी बात जो इस फिल्म को देखने के बाद अखरती है वो है कैटरीना कैफ के किरदार के इर्दगिर्द गढ़ा गया इस फिल्म का प्रमोशन - प्लानकैट के जिस तेवर और नेता वाले तेवर की हर ओर चर्चा है वो फिल्म ख़त्म होने के बमुश्किल पांच या दस मिनट पहले परदे पर आता है और गुज़र जाता है और दिमाग में कौंधता है दूसरा ख़याल कि बेशक राजनीति कैटरीना जैसी ग्लैमरस अभिनेत्री के कैरियर की बेहतरीन फिल्मों में से एक है और बेशक उन्होंने इसमें अब तक का अपना बेहतरीन अभिनय किया है लेकिन अगर इस किरदार में कोई दूसरी अभिनेत्री भी होती तो कुछ ख़ास फर्क पड़ने वाला नहीं था और सबसे बढकर जो बात इस फिल्म को देखनेके बाद अखर जाती है , वो है इस फिल्म यानी राजनीति की हैप्पी एंडिंग ... और उसके बाद सब ख़ुशी - ख़ुशी रहने लगे वाले भाव को दर्शाता फिल्म का अंत दिमाग में बेसाख्ता ही तीसरे ख़याल को कौंधने पर मजबूर कर देता है कि ये तो राजनीति का अंत नहीं हो सकता ...... , ये अंत नहीं है ..... । दरअसल प्रकाश झा की राजनीति जहाँ ख़त्म होती है , वही असली राजनीति के शुरू होने का बिंदु हैहांलाकि ढाई - तीन घंटों में एक पूरे कथानक को समेटने की चुनौती से निपटने का यही सहज और सरल मार्ग था , लेकिन प्रकाश झा जैसे विज़नरी और साहसी फ़िल्मकार से चुनौतियों से निपटने के सरल मार्ग अपनाने की अपेक्षा कुछ कठिन और कठोर विकल्प अपनाने की अपेक्षा कीजानी चाहिए , जिस पर खरा उतरने से झा कुछ चूक गए । पूरी फिल्म में इमोशन या सेंटीमेंट्स का कोई काम नहीं थाभाई , चाचा , पिता ,पति, दोस्त ,प्रेमी , नौकर ,मालिक यहाँ तक की माँ की भी हर क्रिया - प्रतिक्रया राजनीति से प्रेरित थी , अगर ये सच्चाई को दिखाने की कोशिश थी तो इस सच्चाई को यहाँ तक उधेड़ देना चाहिए था कि मुख्यमंत्री की कुर्सी पर पहुंचाते ही इंदु (कैटरीना) भी इसी काजल में रंग कर छल - बल - साम-दाम - दंड - भेद की ताकत को पहचानती और सही अर्थों में राजनीति और सत्ता का मर्म समझ लेतीवो मर्म , जिसे समझ लेने के बाद इंसान कुछ और नहीं सोचता... , कुछ और नहीं समझता ..., कुछ और नहीं देखता... , सिवाय अपनी कुर्सी , स्वार्थपूर्ति और छल - छद्म के ..... !शायद ये अंत एक कड़वी हकीकत के और करीब होताबहरहाल राजनीति कम से कम आज के दौर की एक बेहतरीन फिल्म तो कही ही जा सकती हैसोये हुए को झकझोरने के लिए प्रकाश झा का शुक्रिया ... !