रविवार, 24 जनवरी 2010

गणतंत्र दिवस की बधाईयाँ


आने वाले मंगलवार को 'हम भारत के लोग' अपने महान गणतंत्र की साठवीं सालगिरह मनाने जा रहे हैं । साठ वर्ष पहले छब्बीस जनवरी को हमने अपना संविधान आत्मार्पित किया था । वो संविधान , जो हमें पूर्ण स्वतंत्रता , समानता , न्याय और सम्मान के साथ एक प्रतिष्ठित और गरिमामय नागरिक के रूप में स्वयं को स्थापित करने का अवसर और वातावरण प्रदान करता है । वो संविधान , जो भारत जैसे विशाल देश को एक विधान - सूत्र में पिरोते हुए , एक छोर से दूसरे छोर तक अखंड , अविभाज्य और अतुल्य बनता है । बचपन से ही गणतंत्र दिवस को लेकर मन - मस्तिष्क में एक अनोखा उत्साह रहता आया है । सुबह से ही उमंग की लहरें पूरे तन -मन को उद्वेलित करती रहती हैं । दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर राजपथ दिल्ली की भव्य परेड का सजीव प्रसारण , लाल किले पर शान से फहराता हमारी जान तिरंगा और विश्व भर के समक्ष अपने अदम्य शौर्य और पराक्रम का जयघोष करती भारतीय सेना ... ।जोश का समंदर अपने पूरे उफान पर रहता है । एक नहीं , हजारो , लाखो , करोड़ों बार ऊपर वाले को धन्यवाद देती हूँ कि उसने मुझे इस पुण्य धरा की माटी में जन्म लेने का अवसर दिया और ये कोई कविता या शेर ओ शायरी की भाषा नहीं सच्चे मन की अभिव्यक्ति है । मुझे अपने देश से बेइंतहा प्यार है । मैं इसके खिलाफ कुछ कहना तो दूर , कुछ सुन भी नहीं सकती । मैं इसकी रूह से मोहब्बत करती हूँ और अगर पुनर्जन्म की परिकल्पना सही है तो बार - बार इसी भूमि पर जनमना चाहती हूँ ।
बावजूद इसके , इस दफ़ा मन जाने क्यों कुछ उदास सा हो रहा है । बचपन से ही इस दिन की पहचान रही मन की वो उमंग जाने कहाँ ग़ुम सी गयी लगती है । जाने क्यों लगता है जैसे बीतते सालो में सारा कुछ महज औपचारिकता बन कर रह गया है।२६ जनवरी का मतलब अब है , एक और छुट्टी , आराम का - मस्ती का दिन ।
छोटे -छोटे बच्चे ,जो भारत के भावी नागरिक हैं , कर्णधार हैं , उनके लिए भी गणतंत्र दिवस केलेंडर में छपी एक तारीख से ज्यादा कुछ नहीं , जब उनके सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं और मिठाईयां बंटती हैं ।
विश्व के महानतम गणतंत्र के ६१ वें वर्ष में प्रवेश करने के साथ ही हमें इस पहलू पर भी गंभीरता से सोचना होगा कि कैसे इस महान गणतंत्र की संवैधानिक गरिमा की अमूल्य विरासत भावी पीढ़ी के कर्णधारों के हाथों तक पहुंचाई जाये , कि वे इसे धारण करने के योग्य बन सकें ।

मंगलवार, 19 जनवरी 2010

नया अहसास

हां , ये कहना ही पड़ेगा , कहना ही चाहिए । नया ही तो है सब कुछ । नया साल जो है । मगर सच कहू , मेरे इस कहने के पीछे एक खलिश भी है । जो बहुत पहले करना चाहिए था वो करने में थोड़ी देर हो गयी । नए साल की शुरुआत होने से पहले ही इतनी उथल -पुथल मच गयी कि फिर कुछ करने का न वक्त मिला , न मौका । नहीं - नहीं , कुछ ख़ास नहीं , अरे बाबा , मै किसी राजनैतिक या प्राकृतिक उथल - पुथल की बात नहीं कर रही हूँ ( हैती में भूकंप तो बाद में आया ) , मै तो उस उथल -पुथल की बात कर रही हूँ जो मेरे इर्द - गिर्द मची । कार्यालय का स्थान परिवर्तन हुया , सारा ऑफिस चंद कार्टून्स में पैक हो गया । फिर नए सिरे से 'दुकान' जमाने की चिंता । गए साल का आखरी और नए साल का पहला हफ्ता इन्ही सब पर कुर्बान हो गया। उसके बाद जब फिर से बैठने की नौबत आयी तो वो सारे काम एक -एक कर याद आने लगे जो इस आपाधापी में छूट गए थे और यकीन मानिये सबसे पहले जो ज़ेहन में आया वो था 'मेरा आकाश '। उन्नीस से उन्नीस , आज पूरा एक महीना हो गया । पिछली उन्नीस को पा देखी थी और कुछ लिखा था । इस एक महीने में बहुत कुछ हुआ , बस लिखने का संजोग नहीं बना । नए साल से रोज़ नियमित ब्लॉग लिखूगी , इस संकल्प की भी ऐसी की तैसी हो गयी। खैर चलिए , जब शुरू हो जाये , वही शुरुआत है । उम्मीद करती हूँ कि जब शुरुआत हो ही गयी है तो आगे भी सब अच्छा ही
होगा ।
मेरे सब अपनों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

प्रतिमा .......................